Thursday, July 2, 2015

विदा ...

कब किसी ने सलीका बताया कि कैसे ली जाती है विदा
प्रेम करने के सौ तरीकों वाली किताब भी नहीं बताती
कि विदा प्रेम का ज़रूरी हिस्सा है
साथी को खुश रखने के नुस्खे तो सहेलियों ने भी कान में फूंके थे
माँ भी यदा कदा सिखा ही देती समझौते करने के गुर

लेकिन विदा और मृत्यु के बावत कोई बात नहीं करता
जबकि दोनों प्रेम और जीवन का अंतिम अध्याय लिखती हैं

इस तरह विदा लेना और देना मुझे आया ही नहीं
गले लगकर रोना बड़ा आसान और प्रचलित तरीका है
पर मुकम्मल तो वो भी न लगा 
गाली बक कर दो तमाचों के साथ भी विदा ली जा सकती है
मगर वह इंसानी तरीका नहीं

क्या होता वो सलीका कि विदाई की गरिमा बनी रहती
तमाम शिकवों के बावज़ूद ?

जैसे पेड़ करते हैं अपने पत्तों को विदा 
जैसे रास्ता मुसाफिर को और 
जैसे चिड़िया अपने बच्चों को

मुझे न पेड़ होना आया , न रास्ता होना 
और न चिड़िया होना

खामोशी से किसी को सुलाकर उससे हाथ छुड़ा लेना एक और तरीका है
पर यह तो ज़ुल्म ठहरा 
यशोधरा की खाली छूटी हथेली आंसुओं से भरी देखी थी मैंने
और खामोश होंठों पर एक उदास शिकवा " सखी वे मुझसे कहकर जाते "

वादा करके न लौटना एक और तरीका हो सकता है
मगर यह क्रूरता की पराकाष्ठा है और 
जन्म देता है एक कभी न मिटने वाले अविश्वास को

हांलाकि दोनों तरीकों के मूल में विदा के दुःख को कम करना होता होगा शायद
मैं इस विदा को टालती रही एक मुकम्मल तरीके के इंतज़ार में 
और इस बीच एक सुबह देहरी पर रखा पाया 
एक गुड बाय का ग्रीटिंग कार्ड

विदाई का एक बदमज़ा तरीका आर्चीज वाले भी बेच रहे थे
सच तो ये कि विदा करना कोई किताब नहीं सिखा सकती
कोई समझाइश विदा को आसान और सहज नहीं बनाती

हर विदाई छाती पर एक पत्थर धर जाती
हर विदा के साथ नसें ऐंठ जातीं , आँखें एक बेचैन काला बादल हो जातीं
हर विदाई के साथ कुछ दरकता जाता
हर विदा के साथ कुछ मरता जाता

कितना टालूं इस विदा को कि
अब वक्त बार बार चेतावनी अलार्म दे रहा
"टाइम ओवर लड़की .. तुमसे न हो पायेगा"

हाँ ... मुझसे सचमुच न हो पायेगा
कि मरना ही होगा एक बार फिर
ओ गुलज़ार .. जानते हो
सांस लेने की तरह मरना भी एक आदत है

पर अब भी मैं जीवन की आखिरी विदा से पहले
पेड़ ,रास्ता या चिड़िया होने के इंतज़ार में हूँ...

Saturday, June 20, 2015

जान जाती है जब उठ के जाते हो तुम..

' जान जाती है जब उठ के जाते हो तुम '
फरीदा आपा , कहाँ से लाई हो तुम आवाज़ में ऐसी तड़प कि जाने वाले के कदम वहीं के वहीं थम के रह जाएँ !उफ़ सी होती है दिल में , धड़कनें मुंह को आती हैं ! रोकने वाले की जान जाने वाले के क़दमों में घिसटती हुई पीछे पीछे जाती है !
मैंने तो जब जब कहा ' तुमको अपनी कसम जानेजां ,बात इतनी मेरी मान लो ' जाने वाला मुस्कुराया,गाल पर एक मीठी चपत लगाई और फिर कभी नहीं लौटा ! कसम सिसकती हुई खुली खिड़की पर औंधे मुंह पड़ी रही ! जान निकलती रही ,जान जाती रही पर कोई रुका नहीं !
जाने कितनी कही अनकही इश्क की दास्तानों में ये एक गुज़ारिश रो रोकर दम तोड़ती रही ! पहलू से उठकर जाते देखना रुलाता रहा ,हाय मरते रहे, लुटते रहे मगर आखिर में पनाह देती बस एक आवाज़ बची रह जाती !
' आज जाने की ज़िद न करो '
फरीदा आपा .. तुम गाती जातीं , रील घिसती जाती , ज़िन्दगी गुज़रती जाती !
आखिरी बार तुम्हे अपनी रूह में घोलकर मैंने शिद्दत से बार बार पुकारा था....
' तुम ही सोचो भला क्यूँ न रोकें तुम्हे ,जान जाती है जब उठ के जाते हो तुम
तुमको अपनी कसम जानेजां ,बात इतनी मेरी मान लो
आज जाने की ज़िद न करो '
पर पापा नहीं रुके ! तुमको इतना इतना सुनने वाले पापा नहीं रुके ! ऐसे गए कि बस ...
सच सच कहना आपा ,क्या तुम भी कभी रोक पायीं जाने वालों को ? नहीं रोक पायी होगी ना .. जाने वाला कब रुका है भला ?
आज किसी को नहीं रोकना मुझे ! किसी से कोई ज़िद नहीं करनी ! मगर तुमसे एक रिश्ता है आपा ! जब भी जाने वाले को रोकूँगी ,तुम्हे ही गुनगुनाउंगी । क्या जाने कोई सचमुच ही सारा जहां छोड़कर पहलू में ही बैठा रह जाए ! कोई एक कसम पर ख़ुशी ख़ुशी बंध जाए !
आपा ... तुम पनाह देती हो हमेशा हमेशा ! अभी भी तुम्हारी आवाज़ के दरिया में गहरे डूबी हुई हूँ ! तुम्हारे इतने कहे पर ही जान निकलती है मेरी !
' वक्त की कैद में ज़िन्दगी है मगर ,चन्द घड़ियाँ यही हैं जो आज़ाद है
इनको खोकर मेरी जानेजां ,उम्र भर न तरसते रहो
आज जाने की ज़िद न करो .... '

Saturday, May 16, 2015

अथ श्री कॉकरोच, कॉकरोचनी कथा

एक दिन एक सरकारी ऑफिस में अलमारी के पीछे निवास करने वाले कॉकरोच और कॉकरोचनी चिंता में डूब गए ! उन्होंने स्वीपरों को आपस में बात करते सुना कि सरकार ने सफाई अभियान चलाया है , सभी सरकारी कार्यालयों के अन्दर और बाहर से सारी गंदगी हटा दी जायेगी ! कीड़े मकोड़े भी बेमौत मार दिए जायेंगे !
दोनो प्राणी चिंता में डूब गए ! दोनों को पूरे दिन नींद न आये ! रात भर हाय हाय करें ! अब क्या होगा ?
दोनों ने आंसू भरी आँखों और भारी ह्रदय से अपने पुश्तैनी घर को छोड़कर पलायन करने की सोची और बगल के ऑफिस के स्टोर रूम में बक्से के पीछे एक कुटिया बना ली ! पूरा स्टोर घूमकर देखा , कोई और कॉकरोच न दिखा ! वे दुबारा चिंता में डूब गए ! " यहाँ तो ज्यादा मारकाट हुई है , लगता है "
कौकरोचनी को सुबह होते ही अपने पुराने घर की याद सताने लगी ! वो शोक के मारे मुच्छी लहराकर बोली " चलो प्रिय ..एक चक्कर लगा आयें ! दिन होते ही वापस आ जायेंगे "
दोनों जने आतंकवादी झाडुओं , स्प्रेओं और चप्पलों से छुपते छुपाते पुराने ठिकाने पर पहुंचे ! वहाँ देखा तो एक दूसरा कॉकरोच कपल अपना आशियाना बना चुका था ! कौकरोचनी के गुस्से का ठिकाना न रहा ! जिस घर में वो ब्याह कर आई , यहीं सास ससुर की अर्थी सजी , यही वह पहली बार माँ बनी , आज उसके सपनों के घर में कोई और घुस आया है !
दोनों मियाँ बीवी मूंछ कसकर नए घुसपैठियों को ललकारने लगे ! नयी कौकरोचनी ने डरते हुए बताया कि वे तो सरकार की घोषणा से घबड़ाकर बगल के ऑफिस के स्टोर रूम से भागकर यहाँ शरण लेने आ गए हैं !
दो मिनिट को सन्नाटा छा गया ! तभी एक झींगुर और झींगुरनी ने नेपथ्य से एक दोगाना सुनाया जिसका भावार्थ यह था कि " हे मूर्खो .. जिसको स्वच्छता रखनी होती है वह सरकार के आदेश का इंतज़ार नहीं करता ,जिसके यहाँ कॉकरोच पुश्तों से रहते आये हैं उसकी सात पीढ़ियों का भविष्य वैसे ही उज्जवल है और वैसे भी वे सरकारी कॉकरोच हैं इसलिए चिंता का त्यागकर आनंद मनाएं "
दोनों जोड़ों को यह सुनकर राहत मिली ! चारों ने एक साथ बड़े बाबू की मेज पर झिंगा ला ला बोल बोलकर समूह नृत्य किया और पार्टी मनाकर अपने अपने आशियाने को कूच किया !
अगले दिन सुबह दोनों ने बड़े बाबू को जब बगल की दीवार पर गुटखा थूकते और छोटे बाबू को समोसा खाकर परदे से हाथ पोंछते देखा तब उनकी जान में जान आई !
अगले दिन उन दोनों ने समाज सेवा करते हुए ऑफिस के चूहों , मच्छरों और छिपकलियों को भी झींगुर झींगुरनी का दोगाना मुफ्त में सुनवाया ! सभी प्राणियों में हर्ष छा गया !और वे सभी निश्चिन्त होकर सुखपूर्वक निवास करने लगे !