Monday, February 11, 2008

मई की एक दोपहर
सिर पर सवार सूरज
बेचैन कर देने वाली हवाएं
बोझा ढोते कुछ मजदूर
बैठ गए हैं थककर और
खोल ली है अपनी पोटली
जिसमे से निकली हैं कुछ मोटी रोटियाँ
साथ में प्याज और अचार

उनके बतियाने और हँसने की आवाज़ से
गूँज उठा है आसमान...

उधर ए.सी. कमरों में बंद
कुछ अमीर उद्योगपति
लीन हैं गहन चर्चा में
पेशानी पर बल,हाथों में फाइलें
और...चर्चा का विषय है
'तनाव प्रबंधन'

1 comments:

Narendra Sharma said...

My God... Kya vision hai... Great