Tuesday, March 25, 2008

दंगे की तस्वीरें

कुछ जिस्म तड़प रहे हैं
कुछ रूहें कराह रही हैं
कुछ कुचले हुए ख्वाब
कुछ दम तोड़ती उम्मीदें
इधर उधर बिखरी पड़ी हैं

लहू बहा जाता है
तमाम नालियों में
उफ़,पहचाना भी नहीं जाता
कौन सा कतरा हिन्दू का है और
कौन सा मुसलमान का
नल खोलने से भी डरता हूँ
क्या पता इसमें भी....

बेशुमार बच्चे गहरी नींद सोये है
जिनमे से कई
शायद कभी नहीं उठेंगे
एक ताली बजाता बन्दर भी है
शायद बैटरी अभी बाकी है इसकी

एक हाथ उस कार के पास पड़ा है
दूसरा तो ढूंढ़ना भी नामुमकिन है

दिल बैठा जाता है मेरा
पर क्या करूं,पेशे से मजबूर हूँ
दंगे की तस्वीरें कल अखबार में देनी हैं
अरे हाँ...और मंत्री जी का वो बयान भी कि
पीड़ित परिवारों को दिया जायेगा
उचित मुआवजा....

1 comments:

swapnil said...

Wah...
Khubsurat nazm hai....
'Par kya karun peshe se majboor hoon'
iise padhkar yun mahsoos hua jaise band adhere kamre me achanak koi khidki khul gayee....

Bravo....m a fan of yrs...
-swapnil